उत्तर प्रदेश

Lucknow में इंडियन रोड कांग्रेस में जुटेंगे विश्व के 3000 इंजीनियर, इन मुद्दों पर होगी चर्चा

Spread the love

लखनऊ
 उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 37 सालों के बाद Indian Road Congress (IRC) का चार दिवसीय 81वां वार्षिक अधिवेशन 8 से 11 अक्टूबर तक लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में होगा। इस तरह का अंतिम आयोजन 1985 में लखनऊ में हुआ था। इस सम्मेलन में IRC नई तकनीक की शुरुआत और सड़कों के रखरखाव पर चर्चा करेगी। देश-विदेश के विभिन्न संस्थानों के सड़क क्षेत्र के विशेषज्ञ नई और कम लागत वाली प्रौद्योगिकियों और इस क्षेत्र से जुड़े अन्य मुद्दों पर अपने शोधपत्र प्रस्तुत करेंगे।

देश में राजमार्ग इंजीनियरों की एक शीर्ष संस्था है। 37 साल के अंतराल के बाद लखनऊ को इस बैठक की मेजबानी करने का मौका मिला है। अधिकारियों के अनुसार, अमेरिका, मध्य पूर्व, सिंगापुर के साथ-साथ देश के सभी राज्यों के विशेषज्ञों के भाग लेने की उम्मीद है। .लखनऊ में 8 से 11 अक्टूबर तक आयोजित होने वाले इस सम्मेलन में 81वें वार्षिक सत्र में दुनिया भर से लगभग 3000 इंजीनियरों के शामिल होने और सड़क निर्माण में नवीनतम तकनीकों पर चर्चा करने की संभावना है।

''कार्यक्रम का संभावित स्थान इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान है। यहां आने वाले प्रतिनिधि दुनिया भर में सड़क निर्माण की सर्वोत्तम तकनीकों और डिजाइनों पर चर्चा करेंगे। इसका उद्देश्य उन तकनीकों पर चर्चा करना है जो सर्वोत्तम और सस्ती हैं। साथ ही सड़कों पर वाहनों की सुरक्षा को लेकर भी चर्चा की जाएगी।'' बैठक में इस बात पर भी चर्चा होगी कि सड़क निर्माण में स्थानीय संसाधनों का अधिकतम उपयोग कैसे किया जाए। वाहनों की बढ़ती संख्या को ध्यान में रखते हुए सड़क परिवहन में सुधार पर भी चर्चा होगी। विशेषज्ञों से सड़क निर्माण में पर्यावरण के अनुकूल प्रौद्योगिकियों और सामग्रियों को बढ़ावा देने पर कागजात प्रस्तुत करने की उम्मीद है। नितिन गडकरी कर सकते हैं शुभारंभ उद्घाटन सत्र के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को आमंत्रित करने की भी योजना है।